सब पढ़े-सब बढ़ें!

लीजिये हम आ गए- मैं और ये परीक्षाओं वाला मौसम भी!
वसंत तो सबके लिए सुहावना ही होता है पर ये Exam का सीजन अपनी दिशा और दशा पल-पल बदलते रहता है. खैर वसंत और इस प्रतिबद्ध मौसम के समागम के साथ ही हमारे प्रथम वर्ष की भी समाप्ति हो रही है! कॉलेज जीवन का एक चौथाई हिस्सा, किसी Pizza के हिस्से की भांति ख़त्म होने को है और अभी तक हमें अपनी क्षुधा की तृप्ति का एहसास नहीं हुआ! बस 2 सप्ताह और शेष हैं, फिर एक नया साल, नए कलेवर, नए अंदाज़ और नयी आशाएं! हम सपने देखना नहीं छोड़ते; सपनों जैसी स्वत्छंदता और कहाँ? कल्पना के सागर में गोते लगाना भला किसको पसंद नहीं!

ऐसे ही सपने सजाये हम आये थे जनवरी की कनकनाती ठंड में- मन में विश्वास और कुछ नया कर गुजरने की तमन्ना लिए! आज पीछे मुड़कर देखने पर एहसास होता है की इस सेमेस्टर में क्या खोया और क्या पाया, और कितना – शायद कुछ खाली-सा रह गया है!
शायद हमारा बाल्यावस्था अफ्ले सेमेस्टर में ही ख़त्म हो गया था! तभी तो ये सेमेस्टर कुछ ख़ास था! इस बार कुछ दुर्लभ शिक्षकों से भेंट हुई तो कई कई असाधारण घटनाओं ने रोमांचित भी किया! 10 साल के अनुभव वाली FDS की वो अति-अभिमानी टीचर हो या Mechanical के खडूस मास्टर; Electronics का हिमेश रेशमिया हो या Mechanics के निष्ठावान, निष्कपट बंगाली-दा; BB Pal सर हो या Electrical के वो बूढ़े सर हो या क्लास को चिड़ियाघर बनाने वाले DoDo हो- सबने मिलकर खूब छकाया! ये सब यादों के पन्नों पर छपने को तैयार खड़े हैं! पता नहीं समय इतना जल्दी कैसे बीत जाता है!

अभी डेढ़ महीने पहले ही तो Bitotsav मनाया था- कैसे जैम कर नाचे थे सब- कितना मज़ा किया था सबने! अरे अभी तो मस्ती की शुरुआत ही हुई थी कि परीक्षाओं के काले बादल ने ग्रहण डाल दिया! खैर सेमेस्टर तो सबके लिए यादगार रहेगा- किसी को Valentine’s Day याद आएगा, किसी को Bitotsav, किसी को Rostra तो किसी को Spectra, Esperanza और न जाने क्या-क्या..! किसी को चड्डी सिंह ने परेशान किया, तो कहीं सेवा भाव से लोगों ने श्रमदान और रक्तदान किया! कहीं बदलाव की लहर दौड़ रही थी तो कोई प्रतिस्पर्धा में संलग्न था! कोई Attendance का रोना रोता, तो कोई Marks का! कोई दिल से हारता गया तो कोई दिलों को जीतता गया! 120 दिनों के इस सफ़र में हर किसी के झोली में खट्टे-मीठे एहसास भरे पड़े हैं! संभाल कर रखियेगा इस झोले को- इस झोली में Swag है Swag!! खैर परीक्षाएं नजदीक हैं और दबाव ज्यादा है, इसलिए और नहीं बोलूँगा! आशा है सबके Exams अच्छे हो- सब पढ़े-सब बढ़ें!
शुभकामनाएं!!
ज्यादा Load मत लीजिये और मुस्कुराईये!!!

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s